September 23, 2021
कंप्यूटर के फायदे और Computer full form की इनफार्मेशन।

COMPUTER Full Form – Computer क्या है?

Computer तो आप रोज़ाना इस्तेमाल करते होंगे। हम सभी की दिनचर्या का काफ़ी समय Computer पर ही बीतता है। वैसे तो हम सभी Computer को चलाने में एकदम माहिर होते हैं। लेकिन अगर बात की जाए Computer का फुलफॉर्म जानने की तो बहुत कम लोगो को ही इसका फुलफॉर्म पता होता है। इसीलिए आज हम आपको Computer का फुलफॉर्म बताने के साथ ही इससे जुड़ी अन्य बातें भी बताने वाले हैं।

आइये इसकी शुरुआत करते हैं Computer का फुलफॉर्म जानने से।

Computer Full Form in Hindi

कंप्यूटर के फायदे और Computer full form की इनफार्मेशन।
Computer full form in Hindi

यहाँ पर हम आपको Computer के फुलफॉर्म को English में बताने के साथ ही हिन्दी भाषा में भी बताने वाले हैं।

  • C- Commonly (कॉमनली ) – साधरणतः
  • O- Operated ( ऑपरेटेड)- संचालित
  • M- Machine (मशीन)- मशीन
  • P- Particularly ( पार्टिकुलरली)- विशेष रूप से
  • U- Used for ( यूज्ड फ़ॉर) -प्रयोग किया जाता है
  • T- Trade ( ट्रेड) -व्यापार
  • E- Education and (एडुकेशन एंड) – शिक्षा और
  • R- Research (रिसर्च) -अनुसंधान

अगर Computer के फुलफॉर्म का हिन्दी में अर्थ समझने का प्रयास करें तो इसका अर्थ होगा- “एक ऐसी मशीन जिसका प्रयोग विशेष रूप से व्यापार, शिक्षा तथा अनुसंधान कार्यों के लिए किया जाता है।”

Computer in Hindi

Computer को हिन्दी भाषा में ‘संगणक मशीन’ भी कहा जाता है। Computer को हिन्दी में अधिकल्पित मशीन भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि Computer जितना भी Work करता है वो उसमें पहले से ही Design कर के डाले गए Software के अनुसार ही करता है।

हमने Computer के फुलफॉर्म के बारे में तथा इसके हिन्दी नाम को भी जान लिया। अब आइये इससे जुड़ी कुछ और रोचक बातें भी हम जान लेते हैं। इस क्रम में आइये सबसे पहले जानते हैं Computer की History के बारे में-

History Of कंप्यूटर –

Computer का इतिहास काफ़ी पुराना है। आज से लगभग 300 साल पहले ही इसके निर्माण के आधार की शुरुआत हो चुकी थी। Computer का आधार कैलकुलेटर को माना जाता है। आज से लगभग 5000 साल पहले ही जब बड़ी- बड़ी संख्याओं को जोड़ने के लिए चीन के द्वारा अबेकस की खोज़ की गई तभी से ही Computer के विकास की शुरुआत मानी जा सकती है।

इसके बाद महान भारतीय गणितज्ञ आर्यभट्ट ने ‘0’ का अविष्कार किया तो Computer के विकास की असली शुरुआत हुई।

आधुनिक Computer का जनक चार्ल्स बैबेज़ को माना जाता है। सन 1882 में चार्ल्स बैबेज़ ने पास्कलीन से प्रेरित होकर दुनिया के पहले यान्त्रिक Computer का निर्माण किया। उनके इसी Concept पर आज भी Computer का निर्माण किया जा रहा है।

वहीं दुनिया के सबसे पहले Automatic Computer के निर्माण जा श्रेय हार्थन होलेरिथ को जाता है। उन्होंने 1937 में दुनिया का सबसे पहला Automatic Computer बनाया। तब से लेकर आज तक Computer में काफ़ी बदलाव देखने को मिले हैं।

अब Computer बेहतरीन Technology से Lass होने के साथ ही आकार में भी काफ़ी छोटा आने लगा है। उस समय के Computer को रखने के लिए एक कमरे के बराबर का Space चाहिए होता था। ये आकार में इतने बड़े होते थे कि इन्हें एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने के लिए ट्रक की आवश्यकता पड़ती थी। वहीं आज के समय में Computer आकार में इतना छोटा हो गया है कि हैं इसे अपने जेब में भी रखकर घूम सकते हैं।

इसके साथ ही आज के Computer के काम करने की Speed तथा Accuracy भी पहले के Computer से लाख गुना ज्यादा है। पहले के Computer को चलाने के लिए एक से अधिक व्यक्तियों की जरूरत होती थी, वहीं आज के समय में एक छोटा सा बच्चा भी आसानी से Computer को चला सकता है।

Computer के इस्तेमाल

शुरुआत में Computer का इस्तेमाल सिर्फ़ गणनाओं को करने के उद्देश्य से ही बनाया गया था। पहले जहाँ बड़ी बड़ी संख्याओं को जोड़ने तथा घटाने में काफ़ी समय लग जाता था वहीं Computer की मदद से इन गणनाओं को करने में सेकण्ड से भी कम समय लगता है। सिर्फ़ गणना करने के उद्देश्य से बनाये गए Computer आज हर तरह के काम के लिए प्रयोग में लाये जा रहे हैं।

आज School, College से लेकर बड़े -बड़े Office तथा Research Institute में भी Computer का इस्तेमाल किया जा रहा है। आज के समय में बिना Computer के हमारे लिए जीवन की कल्पना करना भी मुश्किल है। Computer इस दुनिया में एक अलग़ ही क्रान्ति ला दी है।

इसने हमारे जीवन को कितना आसान बना दिया है ये किसी को बताने की आवश्यकता नहीं है।

हमने Computer के फुलफॉर्म के बारे में तथा इसके History के बारे में तो जान लिया, इसी क्रम में अब आइये ये भी जान लेते हैं कि Computer काम कैसे करता है?

Computer कैसे काम करता है?

Computer विभिन्न Device से मिलकर बना हुआ है। इन Device को Input Device तथा Output Device में बाँटा गया है।

Input Device-

हम जिस Device की मदद से Computer को कोई Command देते हैं उसे हम Input Device के रूप में जानते हैं। जैसे कि – Mouse, Keyboard आदि Input Device के रूप में जाने जाते हैं।

Output Device-

Computer को दिए गए Command के अनुसार वो प्रोसेस कर के जिस माध्यम से हमें Result आउटपुट के रूप में देता है, उस माध्यम को हम Output Device कहते हैं। Computer के Part जैसे कि प्रिंटर, मॉनिटर आदि Output Device के रूप में जाने जाते हैं।

अतः जब हम Computer को कोई आदेश या Command देते हैं तो ये सबसे पहले उस Command को Process करता है। ये प्रोसेसिंग का काम Computer के भाग CPU में होता है। CPU को Computer का मस्तिष्क भी कहते हैं। CPU का फुलफॉर्म Central Processing Unit होता है।

CPU में हमारे Command का Process होने के बाद वो हमारे Command का Result हमें Output Device के माध्यम से दे देता है।

Computer पोस्ट पर हमारी राय

आज हम सभी जो Internet Use कर रहे है वो हमारे लिए किसी काम का ना होता अगर हमारे पास Computer ना होता। हमारा Smartphone भी Computer की मदद से ही काम करता है।

आज के समय में छोटी से लेकर बड़ी तथा हर तरह के संस्था, Company तथा स्कूल कॉलेजों में Computer का इस्तेमाल किया जाता है। Computer ने हमारा काम आसान करने के साथ ही हमारा कीमती समय बचाने में भी बहुत योगदान दिया है। पहले जहाँ किसी कार्य को करने के लिए काफ़ी ज़्यादा व्यक्तियों की आवश्यकता पड़ती थी इसके साथ ही समय भी काफ़ी देना पड़ता था। आज के समय में वही काम Computer की मदद से एक ही व्यक्ति बहुत कम समय मे कर सकता है।

इसके साथ ही हम इस पोस्ट को ख़त्म करते है। हमे comment में बताए की आपको हमारी पोस्ट Computer full form in Hindi कैसी लगी ?
कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!