March 5, 2021

PAN Full form – Pan Card क्या है?

PAN कार्ड तो आप सभी के पास होगा। इसके साथ ही हम सभी ने अपने Bank Account से PAN कार्ड को Link भी कराया होगा। लेकिन अगर बात की जाए PAN कार्ड से जुड़ी कुछ जरूरी बातों की,
जैसे कि

  • PAN कार्ड का फुलफॉर्म क्या होता है?
  • PAN का क्या Use है?
  • PAN कार्ड को Bank Account से क्यों Link कराया जाता है?

तो, इन सभी सवालों का जवाब बहुत कम लोगों के पास ही होता है। ऐसे में अगर आप भी इन सभी सवालों के जवाब जानना चाहते हैं तो आज हम आपको PAN कार्ड से जुड़ी सारी Important Information देने वाले हैं। इस क्रम में आइये सबसे पहले जानते हैं कि PAN कार्ड का फुलफॉर्म क्या होता है?

PAN Full Form in Hindi

PAN का फुलफॉर्म – Permanent Account Number।

PAN in Hindi – परमानेंट अकॉउंट नम्बर।

PAN एक तरह का Code है जो कि भारत के हर उस व्यक्ति की एक Unique पहचान करता है जो कि सरकार को Income Tax देते हैं। PAN Number के रूप में प्रत्येक व्यक्ति को 10 अंकों का एक Alpha Numeric Code दिया जाता है जो कि उन्हें Unique Identify करते हैं।

PAN नम्बर में कुछ Alphabet तथा अंक मिलाकर कुल 10 अंक होते हैं। प्रत्येक व्यक्ति को जारी किया गया PAN कार्ड उसकी मृत्यु तक Valid होता है। ये भारत सरकार के Income Tax Department द्वारा Income Tax Act 1961 के तहत हर व्यक्ति को दिया जाता है।

भारत के नागरिक द्वारा PAN कार्ड का प्रयोग Identity Proof के तौर पर भी Use किया जाता है।

हमने PAN का फुलफॉर्म तो जान लिया अब आइये इसी क्रम में हम ये भी जान लेते हैं कि PAN कार्ड का Use क्या है? तथा Bank Account से PAN कार्ड लिंक कराना क्यों ज़रूरी है?

PAN कार्ड का इस्तेमाल –

PAN कार्ड भारत के हर उस व्यक्ति को बनवाना आवश्यक है जो कि Income Tax के दायरे में आता है। दरअसल PAN एक प्रकार का Account Number है है जिसमें किसी भी व्यक्ति द्वारा किये जाने वाले सभी Bank Transaction का Record होता है। भारत का Income Tax Department पैन कार्ड के ज़रिए ही हर व्यक्ति के बैंक खाते से होने वाले लेन-देन पर नज़र रखता है।

इस तरह से अगर वो व्यक्ति अपने Income के अनुसार Income Tax के दायरे में आता है तो भारत का आयकर विभाग उससे Tax की वसूली करता है।

PAN कार्ड का इस्तेमाल भारत के हर उस व्यक्ति को करना आवश्यक है जिन्हें Bank द्वारा अधिक पैसे का लेन देन करना होता है।

Income Tax द्वारा हर व्यक्ति के लिए Bank से लेन देन के लिए पैसे की एक Limit तय की गई है। उस Limit के अन्दर लेन देन करने पर हमें PAN कार्ड की जरूरत नहीं पड़ती है।

अगर बैंक से इस Limit के बाहर जाकर कोई लेंन देन करना होता है तो हमें वहाँ पर अपने PAN कार्ड की Detail भी Bank में जमा करनी होती हैं। जिसके अनुसार Income Tax Department द्वारा Income Tax लिया जाता है।

PAN को Bank Account से Link कराने की वज़ह?

पिछले 1-2 सालों से सरकार ने सभी के लिए Bank Account से PAN कार्ड Link कराना अनिवार्य कर दिया है। इसके पीछे का कारण यही है कि जिससे सभी व्यक्ति के लेन देन पर नज़र रखा जा सके। इससे सरकार को हर व्यक्ति की आमदनी का पता चलता रहता है, जिसके अनुसार वो सभी से Income Tax की वसूली करती है।

जब आपके Bank Account से आपका PAN कार्ड Link हो जाता है तो इसका मतलब ये है कि आपके Bank खाते पर Income Tax की नज़र हमेशा बनी रहती है।

क्या Pan card Identity proof भी है?
यहाँ पर आपको ये भी बता दे कि PAN कार्ड का इस्तेमाल भारतीय नागरिकों द्वारा Identity के रूप में भी किया जाता है, लेकिन ये भारत की नागरिकता हासिल करने का कोई Proof नही है। क्योंकि भारत सरकार द्वारा PAN कार्ड उन लोगो को भी दिया जाता है जो कि भारत के नागरिक नहीं है।

अगर भारत के अन्दर कोई दूसरे देश से आकर व्यापार करता है या फ़िर कोई Investment करता है तो उसे भी PAN कार्ड बनवाना पड़ता है।

Pan card पर हमारी राय

अगर आपकी Income Tax के दायरे में आती है, तो Pan card बनवाना आपके लिए ज़रूरी है।
अगर आपने आज Tax नहीं दिया तो, इसकी दिक्कत आपको आज न होकर 5 – 6 साल बाद होगी, पर होगी
ज़रूर।

ऐसे में समझदारी इसी में है, की आप time पर tax दे।
इस post को हम यही खत्म करते है। हमे comment में बताए की आपको हमारी पोस्ट PAN full form iN Hindi कैसी लगी। कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!