March 3, 2021

IGST full form in Hindi – IGST और GST में क्या फर्क है?

GST टैक्स के बारे में तो आप सभी ने सुना होगा। साल 2016 से हमारे देश मे Tax की एक नई प्रणाली लागू की गई।
इस नए Tax System के तहत पूरा देश सिर्फ़ एक ही Tax के दायरे में आ गया। इस नए Tax System को GST नाम दिया गया।

आप सभी ने GST के बारे में थोड़ा बहुत तो जरूर ही जानते होंगे। GST के लागू होने के बाद इससे जुड़े कई शब्द भी हमें सुनने को मिलते हैं जिसका अर्थ हमें पता नहीं होता है। GST से जुड़ा ऐसा ही एक शब्द है- ‘IGST’

आप सभी ने IGST के बारे में भी जरूर ही सुना होगा, लेकिन बहुत कम लोगो को ही पता होगा की IGST क्या होता है तथा इसका क्या मतलब होता है?

तो अगर आपको भी IGST का अर्थ नहीं पता है तो आप बिल्कुल परेशान ना हों क्योंकि आज हम आपको ना सिर्फ IGST का फुल फॉर्म बताने वाले हैं, बल्कि इससे जुड़ी अन्य सभी महत्वपूर्ण बातें भी बताएंगे। इस क्रम में आइए सबसे पहले जान लेते हैं कि IGST का फुल फॉर्म क्या होता है?

IGST full form in Hindi

IGST का फुलफॉर्म – Integrated Goods and Service Tax

IGST in Hindi – इंटीग्रेटेड गुड्स एंड सर्विस टैक्स

दोस्तों GST के साथ ही IGST को भी साल 2017 में Act 2016 के तहत Define किया गया है। किसी वस्तु पर IGST तब लगाया जाता है जब वो एक State से दूसरे State में बेचने के लिए भेजा जाता है। IGST के रूप में जो भी टैक्स इकट्ठा होता है वो Central Government तथा State Government में बराबर भागों मे बाँट दिया जाता है।
दोस्तों IGST की ठीक तरह से समझने के लिए आपको सबसे पहले GST को समझना होगा। इसीलिए आइये सबसे पहले जानते हैं कि GST की क्या होता है?

GST क्या है?

GST को Goods and Services Tax के नाम से जाना जाता है। ये हमारी सरकार द्वारा हमें मिलने वाले सभी सामान तथा Service पर लगने वाला Tax है।
GST के लागू होने के पहले हमारे देश मे कई तरह के अलग-अलग Tax होते थे। उस स्थिति में एक ही वस्तु अथवा Service के लिए अलग-अलग Type के Tax देने पड़ते थे। जिसमें Cell Tax, Transportation Tax, Excise Duty आदि कई तरह के Tax होते थे।

ऐसी स्थिति में आम Public को Tax का Structure समझने में काफ़ी दिक़्क़त होती थी।इसके साथ ही कई बार तो एक ही वस्तु पर एक से अधिक बार Tax देना पड़ जाता था। इससे किसी एक ही तरह की वस्तु का भारत के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग Price हो जाता था। इसी समस्या के समाधान के लिए Govt. ने एक देश तथा एक कर का System लाया और GST को लागू करने का काम किया।

इससे ना सिर्फ़ लोगो को Tax System समझनें में आसानी हुई, बल्कि भारत मे बिकने वाली किसी भी वस्तु का Rate पूरे देश मे एक ही हुआ। अब आप भारत के किसी भी कोने से कोई भी वस्तु ख़रीदें वो आपको एक निश्चित Rate पर ही हर ज़गह पर मिलेगी।

GST को लागू करने का उद्देश्य ही एक देश मे एक ही तरह का Tax System लाना था।
अब GST को लागू करने के बाद इसे मुख्य रूप से तीन भाग में बाँटा गया है। जो कि इस प्रकार से है-

  1. CGST (Central Goods and Services Tax)
  2. SGST (State Goods and Services Tax)
  3. IGST (Integrated Goods and Services Tax)

जानिए CGST तथा SGST क्या है?

हमारे द्वारा जब किसी वस्तु या Service के लिए जो पैसा Tax के रूप में दिया जाता है तो वो Tax केंद्र सरकार तथा राज्य सरकार द्वारा बराबर भागों में बाँट लिया जाता है।
इसे एक उदाहरण से समझने का प्रयास करें। मान लीजिए कि आप कोई वस्तु Market से ख़रीदते हैं जिस पर उसके मूल्य का 18% GST लगा हुआ है। अब जो 18% आप Tax के रूप में देते हैं उसमें से 9% प्रदेश सरकार यानी कि आप जिस State में रहते हैं वहाँ की State Government लेती है तथा 9% केंद्र सरकार के खाते में जाता है।

State Government द्वारा लिए गए हिस्से को SGST तथा केंद्र सरकार द्वारा लिए गए Tax को CGST के रूप में जाना जाता है। CGST तथा SGST को मिलाकर ही GST लिया जाता है।

अब आइये समझते हैं कि IGST क्या है?

मान लीजिए कि आप किसी Product को Manufacture कर के उसे बाज़ार में बेचना चाहते हैं। ऐसे में अगर आप उस Product को अपने Local Market में यानी कि अपने ही State में बेचते है तो आपको सिर्फ़ उसके लिए GST देना होगा। यानी कि आपके उस Product पर सिर्फ़ GST ही लगता है।

लेकिन अगर आप अपने इस Product को किसी दूसरे State में बेचना चाहते हैं तो आपको जो Tax देना होगा, उसे IGST के नाम से जाना जाता है।
इस IGST को भी राज्य सरकार तथा केन्द्र सरकार में आधा- आधा बाँट लिया जाता है।
किसी भी वस्तु पर IGST तभी लगाया जाता है जब वो Product एक State से किसी दूसरे State में जाकर बेचा जाता है।

IGST पोस्ट पर हमारी राय

इस पोस्ट में हम ने जाना IGST क्या है, कैसे लगता है और IGST form in Hindi के बारे में।
आप IGST की बाकी जानकारी IGST की वेबसाइट से ले सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!